Now Reading
दीपिका म्हात्रे ने मेहनत और जुनून के दम पर बनाया अपना मुकाम

दीपिका म्हात्रे ने मेहनत और जुनून के दम पर बनाया अपना मुकाम

  • अपने सपनों को पाने के लिए मेहनत करते रहो, तभी सफलता मिलेगी – दीपिका म्हात्रे के जीवन का फलसफा
2 MINS READ

कैसे आकाश में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों

दुष्यंत कुमार की ये लाइनें दीपिका म्हात्रे पर एकदम फिट बैठती है क्योंकि घरों में काम करने से लेकर आज स्टैंडअप कॉमडी करने का सफर बिना मेहनत के मुमकिन ही नहीं था।
मुंबई में रहने वाली दीपिका म्हात्रे घरों में साफ-सफाई और खाना बनाने का काम करती थी और घर जाते हुए लोकल ट्रेन में आर्टिफिशल ज्वैलरी बेचकर अपना घर चला रही थी। फिर कुछ ऐसा हुआ कि उनका जीवन ही बदल गया और आज जब वह स्टेज पर बोलना शुरु करती है, तो लोगों की हंसी ही बंद नहीं होती।

ThinkRight.me से खासतौर पर बात करते हुए उन्होंने अपने जीवन के कई लम्हों को हमारे साथ शेयर किया और इस दौरान बात करते हुए खिलखिलाकर हंसने का जज़्बा उनके पॉज़िटिव एटीड्यूट को दर्शा रहा था।

स्टैंडअप कॉमेडी करने का ख्याल कैसे आया?

दीपिका म्हात्रे – मैंने कभी नहीं सोचा था कि ये हुनर मुझे इस मुकाम तक पहुंचा देगा। जिस आपर्टमेंट में मैं काम करती थी, वहां की महिलाओं ने प्रोग्राम रखा, जिसमें हम सभी घरों में काम करने वाली बाईयों को अपना टैलेंट दिखाना था। उसमें मैंने स्टैंडअप कॉमेडी की और फिर ये अखबार में छप गया। मशहूर स्टैंडअप कॉमेडी आर्टिस्ट अदिती मित्तल ने मुझे इसकी बारीकियां समझाई, माइक पकड़ना सिखाया और इस सबका परिणाम है कि आज मैं कई शो कर चुकी हूं।

See Also

अभी तक के सफर में क्या ऐसा खास रहा जिसे आप शेयर करना चाहेंगी?

दीपिका म्हात्रे – मेहनत और सिर्फ मेहनत, जब कुछ कर दिखाने का जज़्बा हो और साथ में जीतोड़ मेहनत करते हो, तो कुछ भी असंभव नहीं होता। घरों के काम करना, ज्वैलरी बेचना फिर रिहर्सल करने में समय कैसे बीत जाता था, पता ही नहीं चला। मैंने सोच लिया था कि अपनी और अपनी तीनों बेटियों की ज़िंदगी बेहतर बनानी है और आज हालात काफी बेहतर है।

आप लोगों को हंसाती है, आपको कौन हंसाता है?

हमारे इस सवाल को सुनकर वह हंसी और फिर कहा, “ जब घर जाती हूं तो अपनी बेटियों के साथ डांस करती हूं, हम चारों खूब मस्ती करते हैं। मैं अपनी बेटियों के साथ जब भी समय बिताती हूं, तो वो समय सबसे खुशनुमा होता है।”

सभी के लिए आपका क्या संदेश होगा?

दीपिका म्हात्रे – कोई काम छोटा नहीं होता और किसी को उसके काम से जज मत करो। घरों में काम करने वाले लोगों को साथ अच्छा बर्ताव करिए। आज की युवा पीढ़ी को मैं कहना चाहूंगी कि सफलता आसानी से नहीं मिलती, टेंशन मत लो, बस अपने काम को लगातार मेहनत और ईमानदारी से करो और जीवन में खुश रहना सीखो।

आप उनके आने वाले शोज़स की जानकारी उनसे इंस्टाग्राम पर जुड़कर ले सकते हैं।

इमेज : फेसबुक

और भी पढ़िये : पानी बचाने की कोशिशों में जुटे ज़मीन से जुड़े 5 लोग

अब आप हमारे साथ फेसबुक, इंस्टाग्राम और  टेलीग्राम  पर भी जुड़िये।

What's Your Reaction?
आपकी प्रतिक्रिया?
Inspired
0
Loved it
0
Happy
0
Not Sure
0
प्रेरणात्मक
0
बहुत अच्छा
0
खुश
0
पता नहीं
0
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

FAQ