Now Reading
बेजुबानों की ‘डॉग मदर’ कहलाती है नोएडा की कावेरी

बेजुबानों की ‘डॉग मदर’ कहलाती है नोएडा की कावेरी

  • बेजुबान जानवरों को दिया अपना घर और प्यार

जब बात दोस्ती की आती है, तब जानवरों से दोस्ती के कई किस्से बरबस ही याद आ जाते हैं। कुछ ऐसा ही हुआ नोएडा की रहने वाली कावेरी के साथ, जब उनके विकलांग कुत्ते सोफी का निधन हुआ तो कावेरी सभी की ‘डॉग मदर’ के नाम से जाना जाने लगा।

कौन है डॉग मदर ?

कावेरी राणा भारद्वाज, एक विदेशी फर्म में ऑपरेशन मैनेजर के रूप में काम करती थी। कंपनी के  किसी काम से 2004 में मुंबई आई थी और उस समय एक दुर्घटना ने उनकी पूरी ज़िंदगी बदल दी। तेज रफ्तार से आ रही कार ने एक कुत्ते और उसके बच्चे को बुरी तरह से घायल कर दिया था, जिसे देखकर कावेरी को रहा न गया। कावेरी घायल कुत्ते के बच्चे को अपने घर ले आई और उसका इलाज करवाया। उससे इतना लगाव हो गया था कि उसे बेटी की तरह पालने लगी। उसकी देखभाल के लिए अपनी नौकरी तक छोड़ दी, लेकिन बीमारी के कारण 12 साल की उम्र में ही सोफी का निधन हो गया। जिसके नाम पर अब कावेरी ने पशु ट्रस्ट खोला है।

क्या करता है यह ट्रस्ट?

सोफी की कमी को पूरा करने के लिए कावेरी ने अपने पति यशराज भारद्वाज के साथ अपनी सोफी मेमोरियल एनिमल रिलीफ ट्रस्ट की शुरुआत की। इसमें सड़क दुर्घटना में घायल या विकलांग जानवरों के बचाव, इलाज और देखभाल किया जाता है। अपने घर ग्रेटर नोएडा में कावेरी और उनके पति यशराज 250 से अधिक पालतू जानवरों के खाने पीने से लेकर हर सुविधा का पूरा ख्याल रखते हैं।

See Also

स्मार्ट सेंचुरी में पशुओं की देखभाल | इमेज : फेसबुक

मिली डॉग मदर’ की पहचान

ग्रेटर नोएडा में कोई पशु आश्रय नहीं था, इसलिए दोनों ने शहर में पहला पशु आश्रय ‘स्मार्ट सेंचुरी’ खोला। सेंचुरी में कुत्तों की हर तरह से मदद की जाती है। कावेरी अपना पूरा समय इन्हीं जानवरों के साथ बिताती है। जानवरों के प्रति उनकी सेवा और प्यार को देखते हुए उन्हें ग्रेटर नोएडा में ‘डॉग मदर’ के नाम से जानते हैं।  

जानवरों के प्रति सेवा

हर महीने 500 से अधिक जानवरों का इलाज स्मार्ट सेंचुरी द्वारा मुफ्त में किया जाता है। हर महीने 100 पशुओं का टीकाकरण किया जाता है। लकवाग्रस्त, बहुत बूढ़े और विकलांग जानवरों को स्मार्ट सेंचुरी में आश्रय दिया जाता है। इतना ही नहीं कावेरी और यशराज जिले में जानवरों के बचाव, गोद लेने, पुनर्वास का काम करते हैं और उनके प्रति हो रही क्रूरता के खिलाफ मुहिम चलाते हैं। वह दोनों लोगों को जानवरों के प्रति दया और करूणा का भाव रखने के लिए लगातार जागरूक करते रहते हैं। उनके इस सेवाभाव को सलाम !

इमेज : फेसबुक

और भी पढ़िये : विज्ञान के अनुसार क्या है सोने का सही तरीका?

अब आप हमारे साथ फेसबुक, इंस्टाग्राम और  टेलीग्राम  पर भी जुड़िये।

What's Your Reaction?
आपकी प्रतिक्रिया?
Inspired
0
Loved it
0
Happy
0
Not Sure
0
प्रेरणात्मक
1
बहुत अच्छा
1
खुश
1
पता नहीं
0
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

FAQ