Now Reading
कोरोनाकाल में कंपनी कैसे रखें अपने कर्मचारियों का ख्याल?

कोरोनाकाल में कंपनी कैसे रखें अपने कर्मचारियों का ख्याल?

  • कोरोनाकाल में कर्मचारियों के प्रति कंपनी के कुछ दायित्व है, जिसका ध्यान रखना बहुत ज़रूरी है।

कोई भी कंपनी तभी आगे बढ़ता है और सफल होता है जब उसक कर्मचारी संतुष्ट, खुश हों और दिल से काम करें और इसके लिए ज़रूरी है कि कंपनी भी अपने कर्मचारियों का ख्याल रखें, उनकी मुश्किलों को समझें और उनका सपोर्ट करें। खासतौर पर महामारी के इस दौर में जब वर्क फ्रॉम होम का कल्चर लंबा चलता दिख रहा है, ऐसे में हर संगठन की अपने कर्मचारियों की प्रति ज़िम्मेदारी भी बढ़ जाती है, क्योंकि उनकी तरक्की उनके कर्मचारियों पर ही तो निर्भर करती है।

वर्क फ्रॉम होम के इस दौर में किसी भी ऑर्गनाइजेशन को अपनी सफलता सुनिश्चित करने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना होगा।

उम्मीद और समझ स्पष्ट होनी चाहिए

मैनेजर्स को अपने कर्मचारियों से उतनी ही उम्मीद करनी चाहिए जिसे पूरा कर पाना संभव हो। उन्हें टीम वैल्यू पता होने के साथ ही कर्मचारियों के शेड्यूल, ज़िम्मेदारियों और क्षमताओं की भी जानकारी होनी चाहिए। घर से काम के दौरान चूंकि कर्मचारियों को घर के भी कुछ काम करने होते हैं, ऐसे में मैनेजर्स को ये समझते हुए काम की ज़िम्मेदारी और काम पूरा करने का समय निश्चित करना चाहिए।

See Also

कंपनी को वर्चुअल कार्यक्रम करना ज़रूरी

लगातार कई महीनों से घर में बंद होकर काम करते-करते हर कोई बोर जाता है, ऐसे में कंपनी को अपने कर्मचारियों की ज़िंदगी में थोड़ा नयापन लाने के लिए कुछ वर्चुअल इवेंट्स आयोजित करने चाहिए। जैसे शुक्रवार शाम या शनिवार को कुछ घंटे की अन ऑफिशियल चैट या बस यूं ही कुछ देर के लिए सबको कनेक्ट करके आपस में बात करने का मौका देना चाहिए, लेकिन हां यह वैकल्पिक होना चाहिए।

संबंधित लेख : हेल्दी वर्क कल्चर बनाने के 5 टिप्स

ऑफिस में रखें कर्मचारियों का ध्यान | इमेज : फाइल इमेज

कर्मचारियों को समझना

कर्मचारियों को समझने के लिए कुछ फनी गेम्स या ईमेल के जरिए गेम्स आयोजित कर सकते हैं जिसमें उनकी पसंद जैसे पसंदीदा किताब, जगह, शौक आदि से जुड़े सवाल किए जाएंगे। ऐसा करने पर हर कोई अपने कलीग को निजी तौर पर भी अच्छी तरह समझ जाएगा और उनके बीच की दूरियां कम होगी, साथ ही इस तरह की पहल से कर्मचारियों को अच्छा महूसस होता है और संगठन के प्रति वह पूरी ईमानदारी से काम करते हैं।

आमने-सामने की मीटिंग

यह सच है कि हर कोई पैसे कमाने के लिए ही काम करता है, लेकिन पैसों के साथ ही एक और चीज़ बहुत मायने रखती है वह है परवाह। जब कर्माचरियों को लगता है कि कंपनी उनकी परवाह करता है तो वह दिल से उससे जुड़ जाते हैं। तभी तो कई ऑर्गनाइजेशन साल में एक बार पिकनिक या गेट-टुगेदर आयोजित करके अपने कर्मचारियों के काम का तनाव दूर करने की कोशिश करता है।

कोरोना काल में यदि आपके आसपास खुली जगह है और सभी कर्मचारी आने के लिए तैयार हों तो आमने-सामने की मीटिंग आयोजित कर सकते है जिसमें सभी कलीग एक-दूसरे से मिलकर बात कर सकें, लेकिन हां मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ। कर्मचारियों को आर्थिक लाभ देने के साथ ही संगठन के लिए उनसे भावनात्मक रूप से जुड़ना और अच्छा वर्क कल्चर प्रदान करना भी ज़रूरी है, तभी कर्मचारी पूरी मेहनत, ईमानदारी और लगन से काम करते हैं और संगठन को सफलता की नई ऊंचाईयों तक ले जाते हैं।

और भी पढ़िये : ऐसे बदलें ज़रूरत से ज़्यादा सोचने की आदत

अब आप हमारे साथ फेसबुक, इंस्टाग्रामट्विटर  और  टेलीग्राम  पर भी जुड़िये।

What's Your Reaction?
आपकी प्रतिक्रिया?
Inspired
0
Loved it
0
Happy
0
Not Sure
0
प्रेरणात्मक
0
बहुत अच्छा
0
खुश
0
पता नहीं
0
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

FAQ