Now Reading
पैंरेंट्स और बच्चों के उलझते रिश्ते को सुलझाएं

पैंरेंट्स और बच्चों के उलझते रिश्ते को सुलझाएं

  • ज़रूरत से ज़्यादा दखल देने से बिगड़ सकता है पैरेंट्स और बच्चों का रिश्ता
3 MINS READ

हर परिवार अपने बच्चों के साथ बेहतर रिश्ता बनाना चाहता है, लेकिन क्या आपका रिश्ता आपके और आपके बच्चे के बीच दूरियां ला रहा है? जब रिश्ता हेल्दी और मज़बूत होता है, तो एक-दूसरे की भावनाओं का सम्मान करने की सीख मिलती है, एक-दूसरे को व्यक्तिगत रूप से विकसित होने में मदद मिलती है और ज़रूरत पड़ने पर एक-दूसरे को मन की बात खुलकर कहने की अनुमति देता है। वहीं उलझी हुई परवरिश में बच्चे और पैरेंट्स के बीच दूरियां आ जाती है।

ज़्यादातर मामलों में, उलझा हुआ पालन-पोषण भावनात्मक स्तर को दर्शाता है, जहां पैरेंट अपनी इच्छाओं को बच्चों पर थोपते हैं और उन्हें नियंत्रित करने के लिए अक्सर पैरेंट्स बच्चों पर हद से ज़्यादा पाबंदी लगा देते हैं। जब बच्चे अपने पैरेंट्स के इच्छाओं पर खरे नहीं उतरने, तो खुद को अकेला, डरा हुआ और अपराधबोध की भावना में घिर जाते हैं।

बच्चों और पैरेंट्स के बीच की दूरी का कारण ?

  • पैरेंट्स को खुश करने के लिए दूसरे बच्चों से ज़्यादा अच्छा नंबर लाने की कोशिश करना
  • बच्चे की हर गतिविधियों में पैरेट्स की रोक-टोक शामिल होना
  • पैेरेंट्स का बच्चे के साथ समय न बिताना
  • बच्चे की कमज़ोरी या भावना की पहचान नहीं होना
  • बच्चा अपने उम्र के हिसाब से काम नहीं कर पाता
  • उसमें चिंता, लाचार और डिप्रेशन की भावना होना
  • नए दोस्त बनाने में मुश्किल होना
  • कठिन परिस्थितियों को नियंत्रित करने में असमर्थ होना

रिश्ते में आई दूरी को मिटाएं

अगर आपको अपने बच्चे में इनमें से कोई भी कारण दिख रहा है, समय आ गया है कि आप अपने बच्चे के साथ रिश्ता मज़बूत बनाने के लिए निम्नलिखित उपाय करें।

ज़िम्मेदारी लें

आमतौर पर पैरेंट्स जिनका अपने बच्चों के साथ  कमज़ोर रिश्ता होता है, बच्चों का बचपन भी उसी वातावरण में बीतता है। पैरेंट्स को यह सीखने की ज़रूरत है कि हम में से प्रत्येक अपनी भावनाओं के लिए ज़िम्मेदार है और जब हम दूसरों को सहानुभूति देकर बेहतर महसूस करा सकते हैं, वैसे ही पैरेंट्स को अपने बच्चे की भावनाओं को समझने के लिए प्यार और समय देने की ज़रूरत है।

See Also

मनोबल बढ़ाएं

बिना किसी सहायता के बच्चों को अपने काम की ज़िम्मेदारी लेने की आज़ादी दें। पैरेंट्स के लिए शुरुआत में बच्चों को ऐसे छोड़ना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। इससे निपटने के लिए आप खुद को एक नई गतिविधि में शामिल कर सकते हैं।

व्यक्तिगत सीमाएं निर्धारित करें

परिवार में प्रत्येक व्यक्ति का अपना व्यक्तिगत स्थान होता है, जहां उसे खुलकर बोलने और मन की बात शेयर करने की पूरी आज़ादी होती है। इसलिए बिना किसी को दोष दिए बिना एक-दूसरे की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए।

भावों को सेहतमंद बनाएं   

हेल्दी भावनाओं को मज़बूत बनाने का मतलब यह है कि बच्चों को जीवन के हर उतार-चढ़ाव में सुरक्षा प्रदान किए बिना उन्हें भावनात्मक ज़रूरतों को पूरा करने या परिस्थितियों से निपटने की पूरी आजादी दें। हार और जीत की सीख लेने दें। अपने बच्चे को स्वतंत्र रूप से घर के रोज़ाना के काम करने के लिए प्रोत्साहित करें, जिससे उनका आत्मविश्वास बढ़ेगा। जैसे आप परिवार के अन्य सदस्यों की बात सुनते हैं, वैसे ही उनकी बात सुनें। अपने विचार बच्चों पर न थोपें।

दोषी महसूस करने से कोई समाधान नहीं मिलेगा

अतीत के बारे में सोचकर दोषी महसूस करने की बजाय अपना समय और ऊर्जा बच्चों के साथ समय बिताकर करें। अपनी रुचियों की बजाय अपने बच्चों को रुचियों का पता लगाएं। आप अपने अपराध बोध को नियंत्रित करने के लिए माइंडफुलनेस मेडिटेशन का अभ्यास कर सकते हैं। पैरेंट्स के रूप में खुद को विकसित करें ताकि आपको अपने बच्चे की भावनाओं और अधूरी जरूरतों का बोझ न उठाना पड़े।

उलझे रिश्ते को सुलझाने में कई बार मुश्किलें आ सकती है, लेकिन हार मत मानिए। अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखें और अपने बच्चे को उनकी भावनाओं को पहचानने, उनका सामना करने और उनकी ज़िम्मेदारी लेने में मदद करें और यही उनका असली सशक्तिकरण होगा।

और भी पढ़िये :  गर्मी के दिनों में ठंडा और तरोताज़ा रखें 5 रेसिपी

अब आप हमारे साथ फेसबुक,इंस्टाग्रामऔर  टेलीग्राम पर भी जुड़िये।

What's Your Reaction?
आपकी प्रतिक्रिया?
Inspired
0
Loved it
0
Happy
0
Not Sure
0
प्रेरणात्मक
0
बहुत अच्छा
0
खुश
0
पता नहीं
0
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

©️2018 JETSYNTHESYS PVT. LTD. ALL RIGHTS RESERVED.